दिल्ली कैपिटल्स के खिलाफ सोमवार को मोहाली में खेले गए आईपीएल मैच में हैट्रिक लेकर क्रिकेट जगत में सनसनी फैलाने वाले 20 साल के सैम कुरेन जिम्बाब्वे के पूर्व क्रिकेटर केविन कुरेन के बेटे हैं. पहली हैट्रिक के बाद पूरी दुनिया की नजर सैम कुरेन पर टिक गई हैं. हालांकि, कम ही लोग जानते हैं कि सैम 10 साल की उम्र से आईपीएल देखते आ रहे हैं. टीवी स्क्रीन पर देखने के बाद उन्हें भी इस टूर्नामेंट में खेलने की ख्वाहिश जगी थी.

सैम कुरेन ने आईपीएल-12 के 2 मैचों में एक हैट्रिक के साथ 6 विकेट चटकाकर क्रिकेट प्रेमियों का ध्यान अपनी ओर आकर्षित कर लिया है. इससे पहले के उनके करियर की बात करें, तो सैम कुरेन ने 49 टी-20 खेले हैं, जिसमें उन्होंने 48 विकेट चटकाए हैं. इस दौरान उन्होंने दो बार 4-4 विकेट भी लिए.

इसके अलावा सैम कुरेन ने इंग्लैंड के लिए अब तक 9 टेस्ट मैच खेले हैं जिसमें उन्होंने 15 विकेट हासिल किए हैं. वहीं, 2 वनडे में 2 विकेट उनके नाम हैं. ऑलराउंडर कुरेन ने अब तक टी-20 इंटरनेशलन में पदार्पण नहीं किया है. 
उनकी इसी प्रतिभा को ध्यान में रखते हुए सोमवार को खेले गए आईपीएल मैच में पंजाब के कप्तान आर. अश्विन ने उन्हें ओपनिंग के लिए भेजा था. सैम ने 10 गेंद खेलकर 20 रन बनाए. इससे पहले सैम ने इंग्लैंड के लिए खेलते हुए 9 टेस्ट मैचों में 32 की औसत से 454 रन भी बनाए हैं. इसमें तीन अर्धशतक भी शामिल है.

हैट्रिक लेकर आईपीएल में रचा इतिहास

सैम कुरेन आईपीएल के इतिहास में सबसे कम उम्र में हैट्रिक लेने वाले खिलाड़ी बन गए हैं. उन्होंने यह उपलब्धि 20 साल और 302 दिन में हासिल की. इससे पहले यह रिकॉर्ड रोहित के नाम दर्ज था जिन्होंने 22 साल, 6 दिन में हैट्रिक लगाकर यह कारनामा किया था.
इंग्लैंड की टीम से खेलते हैं सैम
सैम वर्तमान में इंग्लैंड की टीम से खेलते हैं. जून 2018 में 20 साल से कम उम्र में ही उन्हें इंग्लैंड की टेस्ट टीम में अपना नाम दर्ज करवाकर सबको हैरान कर दिया था. जून 2018 में उन्होंने पाकिस्तान के खिलाफ टेस्ट सीरीज में डेब्यू किया. इससे पहले 17 साल और 40 दिन की उम्र में उनकी गेंदबाजी की धार और बल्लेबाजी की चमक ही थी, जिसके कारण उन्हें अपने देश के फर्स्ट क्लास क्रिकेट के लिए चुन लिया गया था. फर्स्ट क्लास क्रिकेट में सबसे कम उम्र में डेब्यू करने वाले सैम दूसरे खिलाड़ी थे. इस मामले में नंबर एक पर काबिज टोनी लॉक ने 17 साल 8 दिन में फर्स्ट क्लास क्रिकेट में डेब्यू किया था.
जिम्बाब्वे की टीम से खेलते थे पिता

उनका शुरू से ही क्रिकेट से जुड़ाव रहा. उनके क्रिकेट से जुड़े रहने के पीछे का कारण उनका पारिवारिक पृष्टभूमि है. दरअसल, सैम कुरेन के दादा के समय से परिवार के सदस्य क्रिकेट खेलते रहे हैं. पहले उनके दादा, फिर उनके पिता ने भी क्रिकेट में अपनी किस्मत आजमाई और जिम्बाब्वे के लिए टेस्ट और वनडे क्रिकेट खेला.

तीन भाई, तीनों क्रिकेटर

सैम तीन भाईयों में सबसे छोटे हैं और दिलचस्प बात यह है कि तीनों भाई क्रिकेट के मैदान में उतर चुके हैं. सैम के सबसे बड़े भाई टॉम कुरेन इंग्लैंड की टीम से खेलते हैं, वो आईपीएल में कोलकाता नाइट राइडर्स की टीम से भी खेल चुके हैं. वहीं उनसे ठीक बड़े भाई बेन कुरेन मेलबर्न क्रिकेट क्लब की तरफ से क्रिकेट खेलते हैं.
IPL की शुरुआत के दौरान 10 साल के थे कुरेन, पिता के साथ खेलते थे क्रिकेट

सैम ने एक इंटरव्यू में बताया था कि 2008 में जब आईपीएल शुरू हुआ तो वो अपने पिता के साथ घर के पीछे क्रिकेट खेल रहे थे. वो उस समय महज 10 साल के थे. वो बताते हैं, ‘जब आईपीएल शुरू हो रहा था तब मैं अपने घर के पिछले हिस्से में अपने पिता के साथ क्रिकेट खेल रहा था. मैं उस समय सीख रहा था. साथ ही मैं टीवी स्क्रीन पर बड़े खिलाड़ियों शॉट लगाते, विकेट लेते हुए और कुछ को शानदार फील्डिंग करते देख रहा था.’  

TOI से बातचीत सैम कुरेन ने बताया था, ‘मैं वास्तव में आईपीएल का हिस्सा बनने के लिए उत्साहित हूं. मैं इसे लंबे समय से देख रहा हूं. यह एक अद्भुत टूर्नामेंट है. मैं वास्तव में अच्छा क्रिकेट खेलने और दुनिया के सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ियों के साथ ड्रेसिंग रूम साझा करने के लिए उत्सुक हूं.’

सैम ने आगे चलकर न केवल अपना सपना पूरा किया बल्कि आईपीएल 12 में हैट्रिक लेकर इतिहास भी रच दिया है.