मुम्बई । टीम इंडिया के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने विश्व क्रिकेट में भारतीय टीम को सभी बड़े खिताब जिताने के साथ ही कई खिलाड़ियों को आगे बढ़ाया है। आईपीएल में कई क्रिकेटरों ने धोनी की कप्‍तानी में क्रिकेट खेला और बाद में वे अंतरराष्‍ट्रीय क्रिकेट खेलने में भी कामयाब रहे हालांकि इस दौरान इन खिलाडि़यों ने प्रदर्शन भी अच्‍छा किया था जिससे उन्‍हें मौका मिला। यहीं नहीं कई क्रिकेटरों ने धोनी की कप्‍तानी में खेलकर दोबारा से अंतरराष्‍ट्रीय क्रिकेट में जगह बनाई। इनमें जयदेव उनादकट और आशीष नेहरा के नाम शामिल हैं।
आर अश्विन तमिलनाडु के स्पिनर हैं।वे 2008 से लेकर 2017 तक चेन्‍नई सुपरकिंग्‍स के सदस्‍य रहे हालांकि उन्‍हें बड़ा मौका 2010 में मिला और इस साल उन्‍होंने 13 विकेट लिए कुछ महीनों बाद ही अश्विन को टीम इंडिया में शामिल किया गया। आज वे देश के सबसे कामयाब स्पिनरों में गिने जाते हैं। मोहित शर्मा हरियाणा के तेज गेंदबाज हैं। 2013 के आईपीएल में चेन्‍नई ने उन्‍हें खरीदा और इस सीजन में उन्‍होंने 15 मैचों में 23 विकेट लिए। दो महीने बाद ही उन्‍हें जिम्‍बाब्‍वे जाने वाली भारतीय टीम में चुना गया। वे 2015 वर्ल्‍ड कप में भी भारतीय टीम में थे। 
दीपक चाहर राजस्‍थान के तेज गेंदबाज हैं। वे धोनी के साथ पहले राइजिंग पुणे सुपरजाएंट और फिर चेन्‍नई सुपरकिंग्‍स में खेले। पिछले साल के उनके प्रदर्शन के बाद उन्‍हें इंग्‍लैंड दौरे पर भारतीय टीम में चुना गया। अंबाती रायडू हैदराबाद के बल्‍लेबाज हैं। आईपीएल में वे 2010 से लेकर 2017 तक मुंबई इंडियंस के साथ रहे। इस दौरान वे भारतीय टीम के सदस्‍य भी रहे हालांकि 2016 के बाद उन्‍हें टीम इंडिया में नहीं चुना गया लेकिन 2018 आईपीएल में चेन्‍नई सुपरकिंग्‍स में आते ही उनकी किस्‍मत ने पलटा खाया और वे चौथे नंबर के लिए टीम इंडिया में चुन लिए गए। 
आशीष नेहरा ने एमएस धोनी से पहले अंतरराष्‍ट्रीय क्रिकेट में कदम रखा था लेकिन 2011 के विश्व कप के बाद से उन्‍हें मौका नहीं मिला। इसके बाद 2014 में चेन्‍नई ने नेहरा को खरीद लिया. इस सीजन में उन्‍होंने 16 गेंदों में 22 विकेट निकाले। 2015 में भी वे धोनी की टीम में ही रहे। 2016 में उन्‍होंने एक बार फिर से टीम इंडिया में कदम रखा। इसके बाद ऑस्‍ट्रेलिया दौरे, एशिया कप और वर्ल्‍ड टी20 में भी खेले। 2011 के विश्व कप के बाद से उन्‍हें मौका नहीं मिला।