कोविड-19 के संक्रमण से बचाव हेतु लॉकडाउन के दौरान जिले में समुचित प्रबंध बनाये रखने हेतु अधिकारियों की आज कलेक्टोरेट सभाकक्ष में बैठक आयोजित की गई। कलेक्टर श्री श्याम धावड़े की अध्यक्षता में आयोजित इस बैठक में पंचायतवार नियुक्त नोडल अधिकारियों से संबंधित पंचायतों में अद्यतन स्थिति की समीक्षा की गई। बैठक में पुलिस अधीक्षक श्री भोजराम पटेल, जिला पंचायत सीईओ श्री विनय कुमार लंगेह, वनमण्डलाधिकारी श्री मयंक अग्रवाल भी सम्मिलित हुए। 
 कलेक्टर श्री धावड़े ने सभी जनपद सीईओ को संबंधित जनपद मुख्यालय में कोविड-19 से संबंधित कन्ट्रोल रूम स्थापित कर हेल्पलाईन नम्बर जारी करने के निर्देश दिए। उन्होंने उक्त कन्ट्रोल रूम में जनपद स्तर के विभिन्न विभागों के अधिकारी-कर्मचारियो की ड्यूटी लगाने व चौबीसो घंटे कार्य संचालित करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि ग्राम पंचायत स्तर पर पंचायत सचिव एवं रोजगार सहायक होम आइसोलेशन में रखे व्यक्तियों पर निगरानी रखे। साथ ही गांव वालों का मनोबल ऊंचा रखने के लिए उन्हें आवश्यक समझाईश दी जाए। प्रत्येक ग्राम पंचायत में दो क्विंटल अतिरिक्त चावल जरूरतमंदों के लिए रखा जाए। इसके लिए पृथक से पंजी संधारित किया जाए। कलेक्टर ने कहा कि सभी ग्राम पंचायतों में आनाज बैंक स्थापित कर ग्रामीण दानदाताओं, सामाजिक संस्थाओं से आनाज व राशि दान स्वरूप प्राप्त किया जाए। उन्होंने कहा कि आनाज बैंक की व्यवस्था संबंधित जनपद सीईओ/ तहसीलदार द्वारा टीम बनाकर किया जाए। उन्होंने अधिकारियों से कहा कि लॉकडाउन के दौरान कोई भी व्यक्ति भूखा न रहे, इस पर विशेष ध्यान दिया जाए। गांवों में व्यवस्था के सुचारू संचालन के लिए वालिंटियर भी तैयार रखे। साथ ही गांव के जिम्मेदार नागरिकों, स्वयंसेवी संस्थान, दान दाताओं की पृथक सूची बनाकर व्यवस्था हेतु इनसे संवाद स्थापित कायम रखे। कलेक्टर ने कहा कि स्वास्थ्य विभाग से सेवानिवृत्त लोगों की भी सूची तैयार किया जाए, ताकि आवश्यकता पड़ने पर इनकी भी सेवाएं ली जा सके। उन्होंने कहा कि गांवों में होम क्वारिटिंन में रखे गये लोगों की खाने-पीने, कपड़े धाने, व रहने हेतु कक्ष की अलग व्यवस्था होनी चाहिए। जिला स्तर पर मॉनिटरिंग की जिम्मेदारी जिला अधिकारियों को दी गई है, इसी प्रकार पंचायतवार मॉनिटरिंग हेतु ब्लाक स्तर पर भी अधिकारियों को जिम्मेदारी सौपी जाए। कलेक्टर ने कहा कि सोशल डिस्टेसिंग को ध्यान में रखते हुए मनरेगा के कार्य कराई जाए। उन्होंने नगरीय क्षेत्रों में भी आनाज बैंक की व्यवस्था सुनिश्चित करने सभी सीएमओ को निर्देशित किया। कलेक्टर ने जिला एवं विकासखण्ड स्तर के अधिकारी-कर्मचारियों को निर्धारित मुख्यालय में रखने के कड़े निर्देश दिए। साथ ही सभी जिला प्रमुख अधिकारियों को इस बाबत् आगामी मंगलवार तक निर्धारित प्रपत्र में जानकारी जिला कार्यालय को उपलब्ध कराने कहा। उन्होंने जिले में निर्माण कार्य में लगे अन्य प्रांतों के मजदूरो के लिए पर्याप्त खाद्यान्न की व्यवस्था सुनिश्चित करने कार्यपालन अभियंता लोक निर्माण विभाग को निर्देशित किया। कलेक्टर ने कहा कि लॉकडाउन के दौरान कोविड-19 से बचाव हेतु लोगों को विश्वास में लेकर ऊंचे मनोबल और संवेदनशील होकर सभी को टीम भावना के रूप में काम करना है। पुलिस अधीक्षक श्री भोजराम पटेल ने अधिकारियों को लॉकडाउन के दौरान वरिष्ठ अधिकारियों द्वारा वाट्सएप मैसेज के माध्यम से दिये निर्देशों का पालन करने, फेक न्यूज वायरल होने पर इसकी जानकारी से अवगत कराने, गांवों में कानून व्यवस्था की स्थिति निर्मित नहीं होने देने पर विशेष ध्यान देने तथा ग्रामीणों को सोशल डिस्टेसिंग, हाथ धुलाई के संबंध में समझाईश देने की बाते कही। वनमण्डलाधिकारी श्री मयंक अग्रवाल ने लॉकडाउन के दौरान अतिक्रमण और दावानल की शिकायतों की ओर अधिकारियों की ध्यान आकृष्ट करते हुए पंचायतों के नोडल अधिकारियों को भ्रमण के दौरान गांव वालों को वनों में अतिक्रमण और आग न लगाने की समझाईश देने कहा। उन्होंने अवगत कराया कि लॉकडाउन के दौरान लघु वनोपजों की खरीदी बिहान समूह द्वारा नगद राशि देकर की जाएगी। लघु वनोजन समितियों के माध्यम से बिहान समूहों को राशि उपलब्ध करा दी जायेगी। जिला पंचायत के सीईओ श्री विनय कुमार लंगेह ने नोडल अधिकारियों से संबंधित पंचायतवार गांवों में लॉकडाउन के दौरान की गई व्यवस्था और होम आइसोलेशन में रखे गये व्यक्तियों की अद्यतन स्थिति की जानकारी ली। उन्होंने सभी एसडीएम, सभी जनपद सीईओ और नगरीय निकायों के सीएमओ से भी लॉकडाउन के दौरान संबंधित क्षेत्रों में की गई व्यवस्थाओं के संबंध में जानकारी ली। बैठक में अपर कलेक्टर श्री के.के. बेहार, एसडीएम गरियाबंद श्री जे.आर. चौरसिया, एसडीएम राजिम श्री जी.डी. वाहिले, एसडीएम देवभोग श्री भूपेन्द्र साहू, एसडीएम मैनपुर सुश्री अंकिता सोम, डिप्टी कलेक्टर श्री निर्भय साहू व श्रीमती ऋषा ठाकुर, सीएमएचओ डॉ. एन.आर. नवरत्न, सभी जनपद सीईओ और जिला प्रमुख अधिकारी उपस्थित थे।