इंडियन प्रीमियर लीग के अगले सत्र में नियमों में बदलाव हो सकता है। इसके तहत अंतिम ग्यारह में पांच विदेशी खिलाड़ियों को अवसर दिया जा सकता है। इसके अलावा भी कुछ परिवर्तन आगामी 14 वें सत्र में दिख सकते हैं। बीसीसीआई और आईपीएल गवर्निंग काउंसिल न केवल लीग में नई टीम को शामिल करने पर विचार कर रहे हैं, बल्कि लीग के 14वें संस्करण में मेगा नीलामी और नियमों में भी कुछ बड़े बदलाव करने जा रहा है। 
एक रिपोर्ट के अनुसार आईपीएल की कुछ फ्रेंचाइजी अंतिम ग्यारह में 4 की जगह 5 विदेशी खिलाड़ियों को शामिल किये जाने के पक्ष में हैं। आईपीएल में अब तक अंतिम ग्यारह में 4 विदेशी खिलाड़ी रखने का ही नियम है। पांच खिलाड़ियों को लेकर कुछ टीमों का कहना है कि इससे संतुलन बेहतर होगा .
हालांकि, इस मामले पर अभी बीसीसीआई विचार करेगी। वहीं एक बीसीसीआई अधिकारी ने आगे कहा कि अगर लीग का विस्तार किया जाना है, तो यह तय है कि कुछ नियमों में बदलाव होगा। 
इन नियमों में हो सकता है बदलाव 
प्लेइंग फॉर्मेट: रिपोर्ट्स के मुताबिक, आईपीएल के अगले सीजन में 9-10 टीमें हो सकती हैं, इससे पहले तक आईपीएल के हर सीजन में 8 टीमें रही हैं। ऐसे में फॉर्मेट में बदलाव हो सकता है और आईपीएल गवर्निंग काउंसिल आईपीएल से रॉबिन राउंड हटा सकता है और इसके बजाय टीमों को ग्रुप में बांट सकता है।
बढ़ सकती है विदेशी खिलाड़ियों की तादाद: आईपीएल के वर्तमान नियम के तहत टीमें अपनी प्लेइंग इलेवन में चार से ज्यादा विदेशी खिलाड़ियों को नहीं खिला सकतीं। वहीं प्रतियोगिता की गुणवत्ता बनाए रखने के लिए फ्रेंचाइजी अंतिम ग्यारह में 5 विदेशी चाहती हैं। ऐसे में सबसे अधिक संभावना है कि आईपीएल मैनेजमेंट प्रतियोगिता की उच्च गुणवत्ता बनाए रखने के लिए विदेशी खिलाड़ियों की संख्या प्लेइंग इलेवन में 5 कर सकता है। ज्यादा विदेशी खिलाड़ियों के आने से यह टूर्नामेंट और भी प्रतियोगी और रोमांचक होगा।
पावर सर्ज: आईपीएल ऑस्ट्रेलियाई  बिग बैश लीग की तर्ज पर पावर प्ले नियम में एक छोटा सा बदलाव कर सकता है। बीबीएल आगामी संस्करण से 'पावर सर्ज' नियम की शुरुआत कर रहा है पावर सर्ज दो ओवर का पावर प्ले होगा, जिसे बल्लेबाजी टीम पारी के आखिरी 10 ओवरों के दौरान कभी भी ले सकती है। इस दौरान 30 गज के दायरे के बाहर सिर्फ दो फील्डरों को रखने की स्वीकृति होगी। पावर सर्ज को जगह देने के लिए प्रत्येक पारी की शुरुआत में होने वाले छह ओवर के पावर प्ले को घटाकर चार ओवर का कर दिया जाएगा।
एक्स फैक्टर खिलाड़ी: आईपीएल में भी बीबीएल के नए नियमों के तहत टीमों को मैच में 10वें ओवर के बाद एक एक्स फैक्टर खिलाड़ी का इस्तेमाल करने की अनुमति दी जा सकती है। इसके तहत एक बल्लेबाज या फील्डिंग टीम में एक गेंदबाज की जगह लेगा, जिसने एक ओवर से अधिक गेंदबाजी नहीं की हो।